जीव केम चाले दीकरी देतां? Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia

जीव केम चाले दीकरी देतां? Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia

जीव केम चाले दीकरी देतां? Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia केटलीक आशाओ नठारी छे एटले ज इच्छाओ बिचारी छे जीव केम चाले दीकरी देतां...
Read More
में तो लोबान जैसी एक खुशबू हूँ  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

में तो लोबान जैसी एक खुशबू हूँ Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

में तो लोबान जैसी एक खुशबू हूँ  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia हमारे दर्द की ऐसी दवा कर दे तुं दिल में अपने मेरी इक जगा कर दे  मे...
Read More
ते मारी चुपकीदीने नकारी छे Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

ते मारी चुपकीदीने नकारी छे Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

ते मारी चुपकीदीने नकारी छे Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia ते मारी चुपकीदीने नकारी छे ते मारी दुखती रगने दबावी छे अमे किस्मतने...
Read More
तुम नदी बन के आओ तो हम अभी सागर हो जाए Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

तुम नदी बन के आओ तो हम अभी सागर हो जाए Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

तुम नदी बन के आओ तो हम अभी सागर हो जाए Hindi Muktak By Naresh K. Dodia तुम नदी बन के आओ तो हम अभी सागर हो जाए  तुं कभी अलफाज बन के आ...
Read More
घणुं बधुं नहिं,मने बधुं याद छे,अक्षरे-अक्षर! Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia

घणुं बधुं नहिं,मने बधुं याद छे,अक्षरे-अक्षर! Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia

घणुं बधुं नहिं,मने बधुं याद छे,अक्षरे-अक्षर! Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia घणुं बधुं नहिं,मने बधुं याद छे,अक्षरे-अक्षर! सांजन...
Read More
एना मौनने समजवुं आटला वरसे मारा माटे अधरू छे Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia

एना मौनने समजवुं आटला वरसे मारा माटे अधरू छे Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia

एना मौनने समजवुं आटला वरसे मारा माटे अधरू छे Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia एना मौनने समजवुं आटला वरसे मारा माटे अधरू छे छतां पण...
Read More
बरसती आंख मेरी देखकर जो शख्स हसतां हैं Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

बरसती आंख मेरी देखकर जो शख्स हसतां हैं Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

बरसती आंख मेरी देखकर जो शख्स हसतां हैं Hindi Muktak By Naresh K. Dodia बरसती आंख मेरी देखकर जो शख्स हसतां हैं वो लोगो से भी कहेतां ह...
Read More
हुं तने चाहुं छु, एनो मतलब एवो तो नथी Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia

हुं तने चाहुं छु, एनो मतलब एवो तो नथी Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia

हुं तने चाहुं छु, एनो मतलब एवो तो नथी Gujarati Kavita By Naresh K. Dodia हुं तने चाहुं छु, एनो मतलब एवो तो नथी के तारा माटे हुं रो...
Read More