Ankh Na Ashru Ne Kai Kehvatu Nathi Gujarati Gazal

Ankh Na Ashru Ne Kai Kehvatu Nathi Gujarati Gazal
आंखनां अश्रुंने कैं क्हेवातुं नथी
दर्दनु मारण एने समजातुं नथी

रात पडतां धूणवा लागे कामनां
घुस आ इच्छाओनुं घण कै खातु नथी

सांजनी वेळा हमेंशां आवुं जतुं
डाळने पंखीनुं वळगण जातुं नथी

आंख जागे खालिपो मबलख लइने रोज
द्रश्यनुं धण कोइथी रोकातुं नथी

प्रीतने पीडा अलग पाडी ना शको
आ विरहथी दर्द नोखुं थातुं नथी

रीत संबंधो निभावानी छे अलग
एक रागे मानव मन गातुं नथी

ए पूराणा दोरनी वातो कां करे?
जे विते ए हाथमां पकडातुं नथी

आ महोतरमाना सुखनी सौगात छे
सुखनु भातुं सर्वने बंधांतुं नथी
-नरेश के.डॉडीया

Advertisement