तुम्हारे खूबसूरत अहेसास को इस तरह छुना चाहतां हुं

tumhare khoobsurat ehsas ko is tarah chuna chahta hu
                                                  
 तुम्हारे खूबसूरत अहेसास को इस तरह छुना चाहतां हुं
जैसे शुबह के वक्त शबनम गुलो को चुमती है
महोतरमां, 
तुम्हारे वक्त के नाजुक लम्हो मे युं छुपालो
जैसे शाम के वक्त कोइ परींदा अपने घोसले मे
आकर महेफुझ हो कर सो जाये 
-नरेश के.डॉडीया













Advertisement

No comments:

Post a Comment