Gamti Gazal No Ek J Hu Shabda |Thou Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

Gamti Gazal No Ek J Hu Shabda |Thou Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
Gamti Gazal No Ek J Hu Shabda |Thou Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
गमती गझलनो एक ज हुं शब्द थाउं बस
दुःखी ह्रदयनुं स्मित कदी फक्त थाउं बस

पांखो विनाना पंखीनी हुं पांख थइ शकुं
हुं संतना मुखेथी सदा व्यक्त थाउं बस

जीवन तणो कंइक पछीथी अर्थ तो सरे,
हैया मिलावी जाय हुं ए शख्स थाउं बस

शत्रुना हैये स्नेहनी सांकळ बनी शकुं,
हुं प्रेमना आ देवनो जो भक्त थाउं बस

कोइ अजाण यात्रीनो रस्तो जो थइ शकुं
लोकोने काज सहेज हवे व्यस्त थाउं बस
– नरेश के.डोडीया
Advertisement