इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये Urdu Gazal By मुनव्वर राना

इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये Urdu Gazal By मुनव्वर राना
इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये Urdu Gazal By मुनव्वर राना 
इश्क है तो इश्क का इजहार होना चाहिये 
आपको चेहरे से भी बीमार होना चाहिये

आप दरिया हैं तो फिर इस वक्त हम खतरे में हैं 
आप कश्ती हैं तो हमको पार होना चाहिये

ऐरे गैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों 
आपको औरत नहीं अखबार होना चाहिये

जिंदगी कब तलक दर दर फिरायेगी हमें 
टूटा फूटा ही सही घर बार होना चाहिये

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दें मुझे 
इश्क के हिस्से में भी इतवार होना चाहिये
-मुनव्वर राना- 
Advertisement