ए पळथी बे जणनां अभरखा रोज मनगमतां थयां Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

ए पळथी बे जणनां अभरखा रोज मनगमतां थयां Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
ए पळथी बे जणनां अभरखा रोज मनगमतां थयां Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia                                
थोडी घणी वातो करी बे माणसो अळगां थया     
ए पळथी बे जणनां अभरखा रोज मनगमतां थयां                                 
        
जेना विनां पळ एक एने आकरी लागी हती   
                 एनां विरहनां काव्य गझलोनां पछी ढगलां थयां                      

सारी मुसीबत एकधारी एकलाए भोगवी     
ए मानवीना काव्य द्रारा चाहको हसतां थयां      

वातावरण देखाइ छोने शांत मारी चोतरफ              
झाकी जुओ मारी ज अंदर यादनां पडधां थयां              

तारणथी आगळ कोइ जइ शकतुं नथी आ प्रेममां           
जे राह पर आगळ वध्यो ए राहनां नकशां थयां                     

ज्यां शक्यतांओ श्वास अंतिम ले ने इच्छाओ मरे
ज्यां चार जणनी कांध मळतां बोज सौ हलका थयां                

आखो दिवस तुं शब्दनां हथियार टांगीने फरे     
तारा ठठारा जोइ उर्मिओना रण तपतां थयां                              
   
मारी ह्रदयनी बाळइच्छा पुख्त थइ पाकट बनी          
ज्यारे महोतरमाना दिलनां द्रार पर पगला थयां               
-नरेश के. डॉडीया
Advertisement