तरजुमो आ आंसुनो शब्दो करी शकता नथी Muktak By Naresh K. Dodia

तरजुमो आ आंसुनो शब्दो करी शकता नथी Muktak By Naresh K. Dodia
तरजुमो आ आंसुनो शब्दो करी शकता नथी Muktak By Naresh K. Dodia
तरजुमो आ आंसुनो शब्दो करी शकता नथी
ए ज कारणथी बधां शायर बनी शकता नथी
शायरीना क्षेत्रमां बावळ बनी फेलाइ जे
जे फूलो सम नव कवि पडखे उगी शकता नथी
- नरेश के. डॉडीया  
Advertisement