मारू नथी एने कदी मारू बनावी ना शकुं Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

मारू नथी एने कदी मारू बनावी ना शकुं Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
मारू नथी एने कदी मारू बनावी ना शकुं Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
मारू नथी एने कदी मारू बनावी ना शकुं
छे स्थान तारूं दिलमां मारा हुं छुपावी ना शकुं

ए मर्म शब्दोमा समावीने गझल लखतो रहुं
ए इश्कनी जाहोजलाली हुं बतावी ना शकुं

चश्मां लगावीने तने जोया करूं हुं क्यां सुधी?
मारी नजर सामे छबी तारी हटावी ना शकुं

खेली शके छे ज्यां सुधी तारूं जिगर रोके नही
हुं लागणीनी ओथ लइ तने हरावी ना शकुं

आ दबदबो छे कायमी तारो ह्रदयना राजमां
चाली जशे तो राज जीवननुं टकावी ना शकुं

संबंधना दावे कदी हुं हाथ जाली ना शकुं
धारो अलग छे चाहवानो हुं जतावी ना शकुं

केवा अलगताना जगतमां जीववानु आपणुं
बोजो आ टाइमझोननो केमे फगावी ना शकुं

दरियो नथी हुं के,नदी जेवी नथी तारी रवानी
दिलना किनारे रोज आवे पण समावी ना शकुं

छे स्थान तारूं कायमी मारा नयनना गाममां
आ खानगी सरनामु तारूं हुं लखावी ना शकुं

संवांद साथे रोज राधा जोइए छे कानने
राधा वगर कानो कहे बंसी बजावी ना शकुं
-नरेश के.डॉडीया

Advertisement