एवुं नथी के लागणीमां तुं हवे तपती नथी Gujarati Gazal by Naresh K. Dodia

एवुं नथी के लागणीमां तुं हवे तपती नथी Gujarati Gazal by Naresh K. Dodia
एवुं नथी के लागणीमां तुं हवे तपती नथी Gujarati Gazal by Naresh K. Dodia 
एवुं नथी के लागणीमां तुं हवे तपती नथी
चातक समी मारी तरस जोइने झरमरती नथी

माणी शकीए ए पळॉ केटली माणी आपणे?
बेउने मळवानां तुं कोइ कारसा धडती नथी       

देवी कही धरतो हतो तारा चरणमां आ गझल
मारी तपस्याने केम तुं आराधनां गणती नथी?

हुं श्वास रोकी जीव अध्धर-ताल राखुं क्यां सुधी
आ हाल मारा जोइ प्हेला जेम खळभळती नथी

तारा विनानी सांज केवी आकरी लागे मने!
जें सांजनां तुं गइ पछी गझलो मने गमती नथी

कारण विनां हुं जीववा खातर जीवुं लागे हवे
आ जिंदगीमां आखनी प्यालीओनी मस्ती नथी

आ जिंदगीने क्यां सुधी तारी अमानत राखुं हुं?
जो ए “महोतरमां” नथी तो जिंदगी बनती नथी
-नरेश के.डॉडीया
Advertisement