तकदीरमां मारी नथी ए मानवीनो हाथ थामी ना शकुं Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

तकदीरमां मारी नथी ए मानवीनो हाथ थामी ना शकुं Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
तकदीरमां मारी नथी ए मानवीनो हाथ थामी ना शकुं Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
तकदीरमां मारी नथी ए मानवीनो हाथ थामी ना शकुं
हुं रंग एवो छुं हथेळीमां महेंदी जेम आवी ना शकुं

ठोकर सतत खाता रहीने मानवी समजे नही जे खेलने
पथ्थर-समी एनी मुरत पर कोइ’दी हुं स्मित लावी ना शकुं

एनो सितम केवा प्रकारे होय छे के स्मित लावुं के रडुं?
नखरा करे के ए करे देखाव,एनो ताग काढी ना शकुं

लज्जत मळे मारा ह्रदयने जो,गझलने दाद दिलथी होय तो?
दिलथी मळी ए दादनो आभार शब्दोथी हुं मानी ना शकुं

तकदीरनी बाजी सरी गइ हाथमाथी,बस पलक जपकी जरा
मारी हथेळी थामनाराने जीवनभर साथ राखी ना शकुं

लागे नही आ जिंदगी मारी नदी जेवी वहेती थइ हशे?
दरिया समी छे जात,पण हुं स्थान मारूं क्याय स्थापी ना शकुं

आस्वाद मयनो जिंदगीभर ताजगी काजे अमे लेता रह्यां
तेथी ज आवा लागणीना झांझवा आं कंठ हु पी ना शकुं

होती नथी तकदीरनी कृपा बधा शायरना जीवनमा भला
मारी’महोतरमा”करे ए प्रेम सामेथी हु आपी ना शकुं
-नरेश के.डॉडीया
Advertisement