शकयताने अंत के आरंभ जेवुं कशुं नथी Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia

शकयताने अंत के आरंभ जेवुं कशुं नथी Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
शकयताने अंत के आरंभ जेवुं कशुं नथी Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
शकयताने अंत के आरंभ जेवुं कशुं नथी
होय समजण जीवनमां,तो जंग जेवुं कशुं नथी
आ जगतमां चो-तरफथी मानवीओ मळे छतां
एक धारी वातमां सतसंग जेवुं कशुं नथी
-नरेश के.डॉडीया  
Advertisement