ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती है मेरे शाने पर Urdu Gazal By कविता किरण

ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती है मेरे शाने पर Urdu Gazal By कविता किरण
ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती है मेरे शाने पर Urdu Gazal By कविता किरण
ज़ुल्फ़ जब खुल के बिखरती है मेरे शाने पर
बिजलियाँ टूट के गिरती हैं इस ज़माने पर

हुस्न ने खाई क़सम है नहीं पिघलने की
इश्क आमादा है इस बर्फ को गलाने पर

ताक में बैठे हैं इन्सान और फ़रिश्ते भी 
सबकी नज़रें हैं टिकी रूप के खजाने पर

देखकर मुझको वो आदम से बन गया शायर 
जाने क्या-क्या नहीं गुजरी मेरे दीवाने पर

मुन्तजिर हैं ये नज़ारे नज़र मिला लूँ पर
शर्म का बोझ है पलकों के शामियाने पर

लोग समझे कि 'किरण' तू है कोई मयखाना 
कोई जाता ही नहीं अब शराबखाने पर
-कविता किरण
Advertisement

No comments:

Post a comment