वेतरी नाखी में ऊदासी शरम नेवे मूकीने Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia

वेतरी नाखी में ऊदासी शरम नेवे मूकीने Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
वेतरी नाखी में ऊदासी शरम नेवे मूकीने Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
वेतरी नाखी में ऊदासी शरम नेवे मूकीने
दर्द पण भागी गयुं सधळा वजन हेठे मूकीने
बहुं अहम सारो नथी एवी समज तो प्रेम आपे
एक जण ढीलो पडयो अभिमान केडे मूकीने
- नरेश के. डॉडीया  
Advertisement