समय,संजोग ने साथी,बधा एक ज जगा जडता नथी Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia

समय,संजोग ने साथी,बधा एक ज जगा जडता नथी Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
समय,संजोग ने साथी,बधा एक ज जगा जडता नथी 
समय मळशे तो संजोगोने वश साथी कदी मळता नथी 
घणा छे शोखने खातर लखे छे काव्य ने गझलो अहीं
अमारी जेम काव्यो,प्रेमना नामे बधा लखता नथी
- नरेश के.डॉडीया    
Advertisement