अभिमान थाशे पण नहीं मशहूर थावानुं मने Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia

अभिमान थाशे पण नहीं मशहूर थावानुं मने Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
अभिमान थाशे पण नहीं मशहूर थावानुं मने Gujarati Gazal By Naresh K. Dodia
अभिमान थाशे पण नहीं मशहूर थावानुं मने
तोये गमे नामे तारा मगरूर थावानुं मने           

आदी बन्यो छुं ज्यारथी तारी नशीलां संगनो    
गमशे सतत तारा नशे चकचूर थावानुं मने

आदत नथी के कोइनी सामे झुकी जईए अमे
जो तुं कहे तो..फावशे मजबूर थावानुं मने

साजों विती छे रोज अंधाराना ओछाया तळे            
गमशे हवे तारूं प्रभाती नुर थावानुं मने

पासे नही तो यादमा मारी भलेने तुं रहे
गमशे नही दिलनुं कदी पण दुर थावानुं मने

तुं जोइ ले अक्षरो हवे लयतालमा शुं आव्यां
गमशे हवे तारा ह्रदयना सूर थावानुं मने

आहट बनी तारा पगे छमछम रणकतो जांउं हुं
गमशे सदा तारा पगे नूपुर थावानुं मने

फेलाइ जांउं छुं "महोतरमांनां" ख्यालोमां हुं रोज        
गमशे हवे वडलां समो घेघूर थावानु मने         
- नरेश के. डॉडीया  
Advertisement