जिंदगीनुं एक अधरू काव्य में छापी दीधुं Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia

जिंदगीनुं एक अधरू काव्य में छापी दीधुं Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
जिंदगीनुं एक अधरू काव्य में छापी दीधुं Gujarati Muktak By Naresh K. Dodia
लागणीमां प्यार जेवुं मे कशुं वावी दीधुं
जिंदगीनुं एक अधरू काव्य में छापी दीधुं
जिंदगी सौं कोइ जीवी जाय राबेता मूजब
ने मे बे टुकडे जीवातुं आयखुं सांधी दीधुं
- नरेश के. डॉडीयां
Advertisement