ये तिलस्मी चांद जो रो रात को ख्वाबो मे आता है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia

ये तिलस्मी चांद जो रो रात को ख्वाबो मे आता है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia
ये तिलस्मी चांद जो रो रात को ख्वाबो मे आता है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia
ये तिलस्मी चांद जो रो रात को ख्वाबो मे आता है 

आंखो मे एक अजब सा महेकता फुल खिलता हो जैसे
अरमानो की नगरी मे जैसे कोइ होली खेल रहा हो ऐसे 
सितारे जेब मे भर लाते रंग कही तरह के हो जैसे.

उदासी के घेरे हर रंग मे एक जान भर जाता है ऐसे 
दफन हुवे हर ख्वाब को फिर से जगा जाता हैं जैसे, 
मिलाती आंख से आंख जैसे हर साज से नइ धुन हो एसे
आंखो आंखो मे हम संगीतकी नइ सरहद छु लेते हो जैसे.

वो प्यार ऐसे करता है जैसे ना किया किसीने ऐसे
वो बाहो मे लपकता है शर्दीमे कंबलका लिपटना हो जैसे
नशीली होती है रात जैसे मेरे साथ मैयखाना हो जैसे
पैमाने छलकते हर रंग ए नूर के उसकी आंखो मे हो जैसे.

जुल्फे रूखसार में एक काला जादु फेलाती देती है एसे 
जलवा नजर आता है उसका नागिन कचुली छोडती हो जैसे
बेखोफ हुस्न का नजारा रोशनी फेलाता है सुरज हो ऐसे 
रात यु ही कट जाती है मेरी एक नन्ही जिंदगी हो जैसे .
-नरेश के.डॉडीया
Advertisement