सुनां है के उसने नयां इम्पोर्टेड ओवरकोट की आदत डाल दी है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia

सुनां है के उसने नयां इम्पोर्टेड ओवरकोट की आदत डाल दी है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia
सुनां है के उसने नयां इम्पोर्टेड ओवरकोट की आदत डाल दी है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia
में अब भी मन करे तो 
उस की यादो की चद्दर ओढ लेतां हुं                                        
बहुंत बरसो से वोह एक ही चद्दर से काम चलाता हुं
कयुं की दुसरो की यादो की चद्दर
चाहे कितनी भी साफ सुथरी,धुली हुवी,और नइ हो
वो ओढने कां मजा ही नही आता                    

राज की बात कहुं तो
उस की यादो के चद्दर की सिलवटो में अबी भी
अपनापन महेसुस होता है,
कितनी नज्मो के सिलवटॉ में हमने छुपाकर रखी थी
दोनो की उंगलीओ के ताजा निशान अब भी मौजुद है
शरारत कां हर लम्हां आज भी महेफुज हो कर 
वो चद्दर के तुटे हुवे धागो के साथ लिपटे है

हां लेकिन अब वो चद्दर में हम दोनो की सांसो की
जो महेकती खूश्बुं थी वो गायब हो गइ है
कयुं की वो चद्दर में अकेला ही ओढतां हुं

सुनां है के उसने नयां इम्पोर्टेड ओवरकोट की
आदत डाल दी है
-नरेश के.डॉडीया    
                 
Advertisement