बात जिंदगी पे अटक गइ है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia

बात जिंदगी पे अटक गइ है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia
बात जिंदगी पे अटक गइ है Hindi Kavita By Naresh K. Dodia
हम अकसर मिलते है 
बाते कुछ होती नही
लेकीन मेरी आंखो की भाषा समज जाती है
वो कहेती है अब लब्ज की जरूर नही है    

उन की आंखो की गहेराइ को मे देखता रहेता हुं
उन की आंखो के चारो और थोडी झूरीया दिख रही है  

मुझे ऐसा करते देख के उस नें उदासी भरी
मुश्कान नवाजा था

दूसरे दिन वोह मुजे मिलने आयी
तो मैने देखा उस ने बालो की गहेराइ मे
उस ने रंग लगा दिया था

ये प्यार भी कितनां जालीम है
बरसो पहेले उन खूबसूरत काले घने बालो पे फिदा था
आज भी उसे वो बरकरार रखना चाहती है
और कहती है जिंदगी कितनी जल्दी बित जाती है
देखते देखते मैने चालीस को पार कर लिया
        
आज फिर मैने उस के उन के चश्के के आरपार
आंखो की गहेराइ में जांकने की कोशिश की
मेरां घुंधलां सा वजुद देखा
  
अचानक  उस की आंखो से आंसु की धारा बहने लगी
चश्मे उतार दिए और मेरां वजुद और साफ दिखने लगा    

दुसरे दिन मिलने आयी तो उन के
चश्मे की जगह कोन्टेक लेंस लगा दीये थे
लेकीन संमदर की प्यास में बरसो से तडप रही
ये झील सी गहेरी आंखो में आंसुं फिर से बहेने लगे

मैने उस को बाहो में भरके दिल से लगा लिआ
हम दोनो की धडकने बाते करने लगी….
दोनो के दिल से एक बात निकल आयी

हम  दोनो के दिल में किरायेदार रहेता है
जो कभी दिल को खाली करना चाहता नही है

बस इस तरह अपने अपने मकानो का
छुप छुप के मुआयनां करते रहेते है

पैसो वाली बात होती तो किरायेदार को पैसा दे कर  
दिल का मकान खाली हो शकता है
बात जिंदगी पे अटक गइ है

मेरी आंखो में देख के फिर वो बोली  
"कितने लाचार है ये दिल के मकानो के मालिक…
चाहते हुवे भी चाहिते लोगो को अपने दिल के
मकान मे बसा नही शकते है
-नरेश के.डॉडीया
Advertisement