मे तेरी याद के किस्से सुनाता हुं Hindi Gazal By Naresh K. Dodia

मे तेरी याद के किस्से सुनाता हुं Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
मे तेरी याद के किस्से सुनाता हुं Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
मे तेरी याद के किस्से सुनाता हुं
युं लगता है मे लोगो को रूलाता हुं

किसी को चाहने के माइने जानो
पता गुलशन का तेरा धर बताता हुं

यहा जब शाम ढलती नाम से तेरे
मे अपने आप से खुद को छुडाता हुं

मुजे मय से नशा चडता नही जब से
मे तेरे नाम से गझले सजाता हुं

लबो पे है दुवा,दिल मे मुहोबत है
मे तेर नाम से रब को बुलाता हुं

मे नफरत की ये दुनिया से चला आगे
मे तेरे इश्क मे खुद को भूलाता हुं

सुफी के नाम से सब जानते है अब
मे तेरे नाम सजदे-सर जुकाता हुं

तुं आंखो में ठहर गइ है”महोतरमां”
यही वो राझ है अकसर छुपातां हुं
-नरेश के.डॉडीया
Advertisement