मिलने मुझे आए हो तो मिलनां जरूरी है Hindi Gazal By Naresh K. Dodia

मिलने मुझे आए हो तो मिलनां जरूरी है Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
मिलने मुझे आए हो तो मिलनां जरूरी है Hindi Gazal By Naresh K. Dodia       
मिलने मुझे आए हो तो मिलनां जरूरी है        
चाहत मे दिल से बा-अदब जुकना जरूरी है

प्यारी सी यह मुश्कान च्हेरे पे रुकी है क्युं?
इस की बदोलत शाम का सजना जरूरी है

तु हमसफर मेरा है तुझ को साथ चलना है
चाहे डगर मुश्कील हो चलना जरूरी है

मेरी गजल का रंग तेरे रंग जैसा है
ये रंग मेरे इश्क का चढनां जरूरी है

इर्शाद से म्हेफील मे गजले नही सजती
व्हां आप कां झुक के जरां हसनां जरूरी है           

रास्ता अगर तेरी हवेली तक नही जाता
जो राह मेरी ना बने मुडना जरूंरी है

युं सामने बेठे रहे तो बात ना बनती
यह शर्म कां परदा जरां हटनां जरूंरी है                      

इक तिल जो तेरे गाल पे हसता रहेता है
मेरी गजल इस राज पे लिखना जरूरी है

इक रोज मे दुनिया को भी ठोकर लगां दुंगां
मेरी महोतरमां से दिल जुडना जरूरी है
- नरेश के. डॉडीया
Advertisement