वो ऐसां शख्स है जिस को गजल कां झायकां दुं Hindi Gazal by Naresh K. Dodia

वो ऐसां शख्स है जिस को गजल कां झायकां दुं Hindi  Gazal by Naresh K. Dodia
वो ऐसां शख्स है जिस को गजल कां झायकां दुं Hindi  Gazal by Naresh K. Dodia
वो ऐसां शख्स है जिस को गजल कां झायकां दुं
में उर्दु से बनांइ मीसरी बानी चखां दुं          

कभी औकात अपनी देख लो आंखो से अपनी
कभी ऐसा ना हो तुझ को सलीके से भूला दुं 

सुखनवर तो गुलाबो की जबां मे बोलतां है  
वोबरगद की तरह नहिं है जहां चाहा उगा दुं        

नज़ाकत जिस को उर्दु की कभी मालुम नही है 
गजल पढने कां हुन्नर उस को कैसे मे बतां दुं?

सलीका दाद का मालुम नही उस शख्स को दोस्त 
ये महेफिल मे उसे आने की कैसे मै रजा दुं 

कभी दिल तोडनां सीखा नही है इश्क़ कर के 
कभी वो बेवफा मिले सीने अपने लगा दुं 

यहां कां शर्द मौसम कुछ पुरानी याद लायां                
सीने मे जल ती है वो आग कां तुम को धुंवां दुं   

"महोतरमा" तुम्हारी बंदगी करतां हुं में रोज             
कभी आओ जूनू ए इश्क की गेबी मजां दुं                                
- नरेश के. डोडीया
Advertisement