ईश्क कां बस फलसफा ईतना है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

ईश्क कां बस फलसफा ईतना है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
ईश्क कां बस फलसफा ईतना है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
ईश्क कां बस फलसफा ईतना है
रह के जिंदा लगतां है मरना है
तुम को में जब ध्यान से देखुं तो
लगता है की चांद तो गहनां है
– नरेश के. डॉडीया

Advertisement