गजल में दर्द जब से मैं छुपाता हुं Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

गजल में दर्द जब से मैं छुपाता हुं  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
गजल में दर्द जब से मैं छुपाता हुं  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia        
गजल में दर्द जब से मैं छुपाता हुं         
युं लगता है खूशी कां गीत गाता हुं
किसी को चाहने के माइने जानो
पता गुलशन का तेरा धर बताता हुं
- नरेश के. डॉडीया 
Advertisement