हदसे भी ज्यादा तुम तकाजा मिलने का ना करो Hindi Gazal By Naresh K. Dodia

 हदसे भी ज्यादा तुम तकाजा मिलने का ना करो Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
 हदसे भी ज्यादा तुम तकाजा मिलने का ना करो Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
हदसे भी ज्यादा तुम तकाजा मिलने का ना करो
मेरी यही फरियाद कां मुझ से गिला ना करो

जो दिल नां कहे ऐसा कभी कुछ भी किया ना करो
देखो मगर दिल जो कहे उस को निहां ना करो

सब काम चोपट करती है तेरी मुलाकात रोज
मेसेज कर के तंग मुझ को युं किया ना करो

सब मशवरां अपनी समजदारी से देंगें तुम्हे
अपनी गजल मे इश्क की बाते लिखा ना करो

चारो तरफ देखो हवां कैसी चली है यहां
बारिस का मौसम है यादो से राबता ना करो

ना तो दवां है ना जहर है इश्क की बुंद भी
ये अमृत है मेरी तरह उस को पिया ना करो

अब रोशनी फैला के मे तो राख सा हो गयां
दहलिज पे रातो को मुझे कोई रखा ना करो

मेरी दुआ नाकाम अब जाती नही है कभी
किस के लिए मांगी थी रबजी अब पूछा ना करो

मेरी महोतरमा से भी रखनी है दूरी मगर
तुम इश्क में दिमाग की बातो सुनां ना करो
– नरेश के.डॉडीया

Advertisement