शुकुन मिलता नही है और कैसे इश्क़ करते जा रहे हो तुम Hindi Gazal By Naresh K. Dodia

शुकुन मिलता नही है और कैसे इश्क़ करते जा रहे हो तुम Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
शुकुन मिलता नही है और कैसे इश्क़ करते जा रहे हो तुम Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
शुकुन मिलता नही है और कैसे इश्क़ करते जा रहे हो तुम
तुम्हारा चैन छीना जिसने उसके नाम लिखते जा रहे हो तुम

बुलाना चाहते हो मुझ को अपने धर कभी भी मे आ शकतां हुं
तरीकां एक होता है जो लहजो में बो भूलते जा रहे हो तुम

सलिके से भूला देंगे तुम्हें ये बात रखना याद मेरी तुम
हजारो चाहने वाले रो रहे है और हसते जा रहे हो तुम

फिझा के साथ धडकन शोर करती थी मुझे तुम मिलने आती थी
पूरानी याद के उस खंडहर मे आज दबते जा रहे हो तुम

तुं जब से गइ है चारो और खामोशी कां नग्मां कोइ गातां है
पूरानी कोइ फिल्मी सीन की सच्चाइ बनते जा रहे हो तुम

जवानी एक धोखा है यहां सब चाहनेवाले को मालुम है
दूबारा इश्क की अंधी गलीओ मे भटकते जा रहे हो तुम                   
              
कहानी सब अधुरी हो “महोतरमां” यहां ऐसा नही होतां
हमारे इश्क के किरदार से देखो निकलते जा रहे हो तुम
– नरेश के.डोडीया
Advertisement