फांसले तों हैं मगर दिल की दूरीयां भी नहीं हैं Hindi Gazal By Naresh K. Dodia


फांसले तों हैं मगर दिल की दूरीयां भी नहीं हैं  Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
फांसले तों हैं मगर दिल की दूरीयां भी नहीं हैं  Hindi Gazal By Naresh K. Dodia 
फांसले तों हैं मगर दिल की दूरीयां भी नहीं हैं
इश्कवालो के लिए वैसे खूशीया भी नही हैं

इक भरोसा चाहिए दिल से अगर किसी को चाहो
एक रीश्ता संभालनां मजबूरीया भी नही है

एक शायर हुं तो मेरे पास इक प्यारा सा दिल है
आप जितनां मानते हो वो खूबिया भी नही है

आंख बेशक नम हो जाती है हमारी पल के लिए
हा मगर लोगो के जैसी महरूमियाँ भी नही है

लोग अफसाने बनाते रहते है मेरा नाम लेकर
आप मेरी हो हकीकत अब खूफिया भी नही है

जान लो,पहचानलो,फिर मुकरना मत यहां ये
आप को खुश रख शकुं,इतना रुपिया भी नही है

अब महोतरमां ये दिल से आप जा शकती नही है
परमिशन दिल ने अभी तक तुम को दिया भी नही है
– नरेश के.डॉडीया
Advertisement