शाम की तनहाइ मे तुं कयुं नही है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

शाम की तनहाइ मे तुं कयुं नही है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
शाम की तनहाइ मे तुं कयुं नही है
चाहनेवालो की किस्मत ही यही है   
क्यां गलत है क्यां सही मालुम नही है          
तुम कों चाहा तो लगा के सब सहीं है     
- नरेश के. डॉडीया 
Advertisement

No comments:

Post a Comment