रोज तबियत घबराती है तो यहां हम क्या करे Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

रोज तबियत घबराती है तो यहां हम क्या करे  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
रोज तबियत घबराती है तो यहां हम क्या करे  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
रोज तबियत घबराती है तो यहां हम क्या करे 
इश्क मे तकदीर उलजी है तो अब गम क्या करे 
तुं नहीं हो ये हकीकत आंख में खलती नहीं 
खामखां अब आंख को तेरे लिए नम कया करे 
- नरेश के.  डोडीया
Advertisement

No comments:

Post a Comment