कोई खतरे से यहाँ खाली नहीं है Hindi Gazal By Naresh K. Dodia

 कोई खतरे से यहाँ खाली नहीं है Hindi Gazal By Naresh K. Dodia
 कोई खतरे से यहाँ खाली नहीं है Hindi Gazal By Naresh K. Dodia 
कोई खतरे से यहाँ खाली नहीं है
अब फूलो के बाग मे माली नही है

कुछ ना कुछ बो भूल जाती वो मेरे पास
फोन आया कान की बाली नही है

लोग कितने मझहबी बनने लगे है
साथ मे सब खाए वो थाली नही है

माने बच्चे को यही कह के सुलाया
आज तो रोजा है दिवाली नहीं है

शायरी मेरी हमारे दिल की है बात
बात दिल से निकली है जाली नही है

ये गजल पे वाहवाही बहुंत हो गइ
एक तुम्हारी ही यहां ताली नही है

बीवी से कयुं डरते रहेते है यहां मर्द?
आज कल की बीवी रूदाली नही हैं

प्यार से मैने “बलां”कहां तो हुवां क्यां?
अपने को कुछ भी कहो गाली नहीं है

अब महोतरमा की ही चलती है दिल पे
कोइ उस के जैसी दिलवाली नही है
– नरेश के. डोडीया
Advertisement