तेरी नजर के सामने कितने पुराने हो गए Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

तेरी नजर के सामने कितने पुराने हो गए  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
तेरी नजर के सामने कितने पुराने हो गए  Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
तेरी नजर के सामने कितने पुराने हो गए 
तेरे दिवाने थे कमी उस के जमाने हो गए 
मिलते थे हम दोनो पूराने दौर मे जिस बाग में      
व्हां आज देखो,सब  मकाने ही मकाने हो गए        
- नरेश के. डोडीया
Advertisement