हमारे पास आने की तुम्हें फुरसत नहीं हैं ! Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

हमारे पास आने की तुम्हें फुरसत नहीं हैं ! Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
हमारे पास आने की तुम्हें फुरसत नहीं हैं ! Hindi Muktak By Naresh K. Dodia
हमारे पास आने की तुम्हें फुरसत नहीं हैं !
चलो अच्छा हैं तेरी आज कल आदत नहीं हैं
सुना है आज कल बाते बनाना शीख गइ हो?
तुं सबसे कहती है मुझ से तुम्हे चाहत नहीं है  
- नरेश के.डॉडीया 
Advertisement

No comments:

Post a Comment