वक्त रहते फैसला तेरा बदल सकता है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia

वक्त रहते फैसला तेरा बदल सकता है Hindi Muktak By Naresh K. Dodia 
वक्त रहते फैसला तेरा बदल सकता है 
देख के मुझ को तुम्हारा दिल धडक सकता है 
आप के लाखो दिवाने हो मुझे क्यां लेनां
मेरी नजरो से गरुर जब चांहुं घट सकतां हैं        
- नरेश के. डोडीया
Advertisement

No comments:

Post a comment